Jharkhand: आईएएस पूजा सिंघल की जमानत याचिका पर अगली सुनवाई चार जुलाई को, मनी लॉन्ड्रिंग मामले में हुई थीं गिरफ्तार

Jharkhand: आईएएस पूजा सिंघल की जमानत याचिका पर अगली सुनवाई चार जुलाई को, मनी लॉन्ड्रिंग मामले में हुई थीं गिरफ्तार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रांची

द्वारा प्रकाशित: संजीव कुमार झा
अपडेट किया गया मंगल, 28 जून 2022 02:20 PM IST

ख़बर सुनें

झारखंड स्थित रांची की विशेष पीएमएलए अदालत ने आज कथित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित और गिरफ्तार आईएएस पूजा सिंघल द्वारा दायर जमानत याचिका पर सुनवाई की। उनकी जमानत याचिका पर अगली सुनवाई 4 जुलाई को होगी।

क्या है मामला?
पूजा सिंघल एवं अन्य के खिलाफ यह मामला मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा है, जिसमें झारखंड सरकार के पूर्व जूनियर इंजीनियर राम विनोद सिन्हा को ईडी ने 17 जून 2020 को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया था। उससे पहले उसके खिलाफ राज्य सतर्कता ब्यूरो की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद 2012 में एजेंसी द्वारा पीएमएलए के तहत मामला दर्ज किया गया था। सिन्हा पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की आपराधिक धाराओं के तहत धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार से संबंधित आपराधिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

उस पर एक अप्रैल 2008 से 21 मार्च 2011 तक जूनियर इंजीनियर के रूप में काम करते हुए कथित तौर पर जनता के पैसे की धोखाधड़ी करके उसे अपने नाम के साथ-साथ अपने परिवार के सदस्यों के नाम पर निवेश करने का आरोप है। एजेंसी ने पहले कहा था कि उक्त धन को खूंटी जिले में मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम) के तहत सरकारी परियोजनाओं के निष्पादन के लिए रखा गया था। सिन्हा ने ईडी को बताया कि उसने जिला प्रशासन को पांच प्रतिशत कमीशन (धोखाधड़ी में से) का भुगतान किया है।

विस्तार

झारखंड स्थित रांची की विशेष पीएमएलए अदालत ने आज कथित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित और गिरफ्तार आईएएस पूजा सिंघल द्वारा दायर जमानत याचिका पर सुनवाई की। उनकी जमानत याचिका पर अगली सुनवाई 4 जुलाई को होगी।

क्या है मामला?

पूजा सिंघल एवं अन्य के खिलाफ यह मामला मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा है, जिसमें झारखंड सरकार के पूर्व जूनियर इंजीनियर राम विनोद सिन्हा को ईडी ने 17 जून 2020 को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया था। उससे पहले उसके खिलाफ राज्य सतर्कता ब्यूरो की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद 2012 में एजेंसी द्वारा पीएमएलए के तहत मामला दर्ज किया गया था। सिन्हा पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की आपराधिक धाराओं के तहत धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार से संबंधित आपराधिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

उस पर एक अप्रैल 2008 से 21 मार्च 2011 तक जूनियर इंजीनियर के रूप में काम करते हुए कथित तौर पर जनता के पैसे की धोखाधड़ी करके उसे अपने नाम के साथ-साथ अपने परिवार के सदस्यों के नाम पर निवेश करने का आरोप है। एजेंसी ने पहले कहा था कि उक्त धन को खूंटी जिले में मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम) के तहत सरकारी परियोजनाओं के निष्पादन के लिए रखा गया था। सिन्हा ने ईडी को बताया कि उसने जिला प्रशासन को पांच प्रतिशत कमीशन (धोखाधड़ी में से) का भुगतान किया है।

#Jharkhand #आईएएस #पज #सघल #क #जमनत #यचक #पर #अगल #सनवई #चर #जलई #क #मन #लनडरग #ममल #म #हई #थ #गरफतर

youplus.shiva-music.com

Yash Studio Keep Listening

yash studio

Connect With Us

Watch New Movies And Songs

shiva music

Read Hindi eBooks

ebook-shiva

Amar Bangla Potrika

Amar-Bangla-Patrika

Your Search for Property ends here

suneja realtors

Get Our App On Your Phone

X