Jharkhand: सीएम सोरेन की अध्यक्षता में हुई टीएसी की बैठक, आदिवासी शिक्षा, संस्कृति, परंपरा के विस्तार पर चर्चा

Jharkhand: सहायक शिक्षकों के आश्रितों को नौकरी देने की शर्तों में बदलाव, शिक्षा मंत्री ने दिए निर्देश

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन
– फोटो : पीटीआई

ख़बर सुनें

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में बुधवार को हुई आदिवासी सलाहकार समिति (टीएसी) की तीसरी बैठक में आदिवासी शिक्षा, संस्कृति और परंपरा के विस्तार के साथ अधिकारों के संरक्षण पर चर्चा हुई। समिति ने राज्य के पर्यावरण और आदिवासी संस्कृति को संरक्षित करते हुए इको-टूरिज्म को प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि बैठक के दौरान लगभग नौ बिंदुओं पर चर्चा की गई, जिसमें बड़ी मात्रा में वनवासियों से लघु वनोपज खरीदकर उनकी आय बढ़ाने का निर्णय लिया गया।

डॉ. रामदयाल मुंडा आदिवासी कल्याण शोध संस्थान के माध्यम से अध्ययन कराकर कक्षा 1 से 5 तक आदिवासी भाषाओं में अध्ययन और आदिवासी भाषाओं के अधिक से अधिक प्रयोग को बढ़ावा देने की नीति बनाई जाएगी।  समिति सदस्यों ने कहा कि आदिवासी भाषाओं के शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया में तेजी लाई जाए और आवश्यकतानुसार पदों का भी सृजन किया जाए।

समिति ने यह भी निर्णय लिया कि नगर पालिकाओं (अनुसूचित क्षेत्रों तक विस्तार) विधेयक, 2021 के स्थायी होने की सिफारिश जो कि ‘नगर निकाय की समिति की सिफारिश जिसमें आदिवासी समुदायों का प्रतिनिधित्व किया जाता है, नगरपालिका निकाय पर बाध्यकारी होगी’ जैसा है वैसा ही रखा जाएगा और इसे मंजूरी के लिए भारत सरकार को भेजा जाएगा। बयान में कहा गया है कि पहले इसे हटाने की सिफारिश की गई थी।

सदस्यों ने आदिवासियों के लिए रांची महापौर की सीट के आरक्षण को समाप्त करने पर आदिवासियों के विरोध पर भी चर्चा की। राज्य चुनाव आयोग द्वारा 17 नवंबर को जारी एक अधिसूचना के अनुसार, रांची महापौर का पद, जो पहले एसटी महिलाओं के लिए आरक्षित था, अब एससी उम्मीदवारों के लिए आरक्षित होगा।

विस्तार

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में बुधवार को हुई आदिवासी सलाहकार समिति (टीएसी) की तीसरी बैठक में आदिवासी शिक्षा, संस्कृति और परंपरा के विस्तार के साथ अधिकारों के संरक्षण पर चर्चा हुई। समिति ने राज्य के पर्यावरण और आदिवासी संस्कृति को संरक्षित करते हुए इको-टूरिज्म को प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि बैठक के दौरान लगभग नौ बिंदुओं पर चर्चा की गई, जिसमें बड़ी मात्रा में वनवासियों से लघु वनोपज खरीदकर उनकी आय बढ़ाने का निर्णय लिया गया।

डॉ. रामदयाल मुंडा आदिवासी कल्याण शोध संस्थान के माध्यम से अध्ययन कराकर कक्षा 1 से 5 तक आदिवासी भाषाओं में अध्ययन और आदिवासी भाषाओं के अधिक से अधिक प्रयोग को बढ़ावा देने की नीति बनाई जाएगी।  समिति सदस्यों ने कहा कि आदिवासी भाषाओं के शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया में तेजी लाई जाए और आवश्यकतानुसार पदों का भी सृजन किया जाए।

समिति ने यह भी निर्णय लिया कि नगर पालिकाओं (अनुसूचित क्षेत्रों तक विस्तार) विधेयक, 2021 के स्थायी होने की सिफारिश जो कि ‘नगर निकाय की समिति की सिफारिश जिसमें आदिवासी समुदायों का प्रतिनिधित्व किया जाता है, नगरपालिका निकाय पर बाध्यकारी होगी’ जैसा है वैसा ही रखा जाएगा और इसे मंजूरी के लिए भारत सरकार को भेजा जाएगा। बयान में कहा गया है कि पहले इसे हटाने की सिफारिश की गई थी।

सदस्यों ने आदिवासियों के लिए रांची महापौर की सीट के आरक्षण को समाप्त करने पर आदिवासियों के विरोध पर भी चर्चा की। राज्य चुनाव आयोग द्वारा 17 नवंबर को जारी एक अधिसूचना के अनुसार, रांची महापौर का पद, जो पहले एसटी महिलाओं के लिए आरक्षित था, अब एससी उम्मीदवारों के लिए आरक्षित होगा।



#Jharkhand #सएम #सरन #क #अधयकषत #म #हई #टएस #क #बठक #आदवस #शकष #ससकत #परपर #क #वसतर #पर #चरच

Yash Studio Keep Listening

yash studio

Connect With Us

Watch New Movies And Songs

shiva music

Read Hindi eBooks

ebook-shiva

Amar Bangla Potrika

Amar-Bangla-Patrika

Your Search for Property ends here

suneja realtors

Get Our App On Your Phone

X